स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका (वाया मनाली)

मनाली से होकर स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका विस्तृत रुप में इस पेज पर नीचे प्रकाशित की गई है। संपूर्ण टिप्स वाले पेज हेतू यहां क्लिक करें। शिमला-किन्नौर से काजा वाले रुट के लिये यहां क्लिक करें
  1. कब जायें 
  2. कैसे जायें 
  3. यात्रा प्लान 
  4. दर्शनीय स्थलों की सूची 
  5. रात्रि-विश्राम

स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका (वाया शिमला-किन्नौर)

शिमला-किन्नौर से होकर स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका विस्तृत रुप में इस पेज पर नीचे प्रकाशित की गई है। संपूर्ण टिप्स वाले पेज हेतू यहां क्लिक करें। मनाली से काजा वाले रुट के लिये यहां क्लिक करें
  1. कब जायें 
  2. कैसे जायें 
  3. यात्रा प्लान 
  4. दर्शनीय स्थलों की सूची 
  5.  रात्रि-विश्राम

स्पीति टूर गाईड

स्पीति, एक ऐसी जगह जो हर मौसम में अपने अलग-अलग रंग दिखाती है। जो वहां नहीं गये वो स्पीति के न जाने कितने रुप मन में बसाये फिरते हैं। किन्नौर-स्पीति-लाहौल घाटियों का सफर उत्तेजना और रोमांच से भर देता है। किसी भी अन्य यात्रा के मुकाबले स्पीति भ्रमण बेहद दुर्गम है। कोई अगर लद्दाख हो आया है और अपने आप को तीस मार खाँ समझे तो स्पीति के यात्री भी किसी भी तरह से पच्चीस मार खाँ नहीं है। लद्दाख और स्पीति में समान भौगोलिक परिस्थितियां मिलती हैं। दुर्गमताओं को पार करने का इनाम हर मोङ पर मिलता है। हिमालय हर बार नये रुप में सामने होता है। दूसरी चीजें भी बदलती जाती हैं, जैसे लोग, भाषा, भूगोल, सङक, सब कुछ यहां तक कि कई मायनों में खुद आप भी। मुख्यतः काजा ही स्पीति का मध्य-बिंदु है और आप जैसे-जैसे इस केन्द्र की ओर बढते जायेंगें तो स्थानिय बोली, सङक और भूगोल जटिल होते जायेंगें लेकिन स्थानिय लोग और उनका व्यवहार सरल होता जायेगा। इस पर भी संवाद की ओर से तनिक भर भी परेशान होने की जरूरत नहीं चूंकि हिन्दी खूब बोली और समझी जाती है। “हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा” शीर्षक के साथ इसी ब्लॉग पर छह अंकों में प्रकाशित किया गया यात्रा-वृतांत दिल्ली-काजा-दिल्ली भ्रमण का उम्दा मार्गदर्शक है। तो भी इस लेख के जरिये स्पीति यात्रा से जुङी हर जिज्ञासा को वन-स्टॉप-सर्च के आधार पर पूरी करने का प्रयास किया जायेगा।